National Education Policy India: हिन्दी भाषा में होंगी सभी परीक्षाएं, सभी विश्वविद्यालयों को आधिकारिक दिशा निर्देश जारी

National Education Policy: राष्ट्रीय शिक्षा नीति के बारे में हमने आपको पिछली कई पोस्टों में बताया है। इस नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के आधारभूत एक बड़ी अपडेट मिल चुकी है। जोकि बहुत बड़ी खुशखबरी है। आपको बता दें कि अब से सभी एग्जाम के प्रश्नपत्र हिंदी में भी आयेंगे। AICTE द्वारा यह निर्देश सभी विश्वविद्यालय को दे दिया है।

एआईसीटीई ने यह निर्देश तत्काल प्रभाव से समस्त बिंदुओं तथा अभ्यर्थियों की समस्याओं को देखते हुए दिए हैं। लेकिन कुछ भी हो हिंदी भाषा को कंपल्सरी करना ऐसे लोगों के लिए जोकि इंग्लिश में कमजोर हैं जिसमें मैं भी आता हूं के लिए यह बहुत अच्छी खबर है। इसके बारे में आगे विस्तार से जानते हैं।

 

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुसार हिंदी में होंगे प्रश्नपत्र

जैसा कि आपको हमने बताया है कि आगामी समय परीक्षाएं अब नई शिक्षा नीति के आधार पर संपन्न करवाई जाएंगी। इसी कड़ी में यह भी खबर जुड़ती है कि अब वे परीक्षाएं हिंदी तथा इंग्लिश दोनो भाषा में होंगी। आपकी जानकारी के लिए बता दें की AICTE द्वारा बिहार इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय समेत लगभग सभी टेक्निकल तथा इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय को यह निर्देश भेजा जा चुका है।

 

जिसके मुताबिक आगामी समेस्टर के परीक्षाएं हिंदी तथा इंग्लिश में संपन्न करवाई जाएंगी। इस एमआईटी समेत कई इंजीनियरिंग कॉलेज की सेमेस्टर की परीक्षा भी हिंदी तथा इंग्लिश में होंगी। यह फैसला इंग्लिश में कमजोर परीक्षार्थियों को देखते हुए लिया गया है। इसके आने से इंग्लिश के साथ एक हिंदी भाषा का भी जुड़ना और उस भाषा का जोकि हमारे लिए आसानी पैदा करती है तो एक तरह से यह बहुत बड़ी खबर है।

 

अच्छे अंक लाने में सक्षम होंगे छात्र

बीटेक समेत अन्य इंजीनियरिंग कोर्स के प्रश्नपत्रों को इंग्लिश तथा हिन्दी भाषा में आने से ऐसे अभ्यर्थियों को भी अच्छे अंक लाने में मदद मिलेगी जो परीक्षा में इंग्लिश की वजह से प्रश्नपत्रों को ठीक से पढ़ने में नाकाम रहते थे। अब उनके लिए अच्छे अंक लाने का सुनहरा मौका आ गया है। क्योंकि हिंदी पढ़कर और समझकर उसका उत्तर अभ्यर्थी और भी अच्छे से से पायेंगे। आपको यह अपडेट कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment