BEd vs BTC 2024: बीएड को एक साल के अंदर ब्रिज कोर्स कराने का सुप्रीम कोर्ट ने दिया सख़्त आदेश, एनसीटीई अपनी ज़िम्मेदारी पर उठाए कदम

BEd vs BTC 2024

 

BEd vs BTC 2024: बीएड को एक साल के अंदर ब्रिज कोर्स कराने का सुप्रीम कोर्ट ने दिया सख़्त आदेश, एनसीटीई अपनी ज़िम्मेदारी पर उठाए कदम। यदि आप उत्तर प्रदेश में शिक्षक भर्ती परीक्षा से संबंधित जानकारी ले बारे में जानना चाहते हैं तो आपके लिए यह ख़बर महत्त्वपूर्ण होने वाली है । आपको बता दें यह खबर बीएड अभ्यर्थियों के लिए काफ़ी ज़्यादा ज़रूरी है क्योंकि अब एनसीटीई द्वारा जल्द ही बड़ी खबर आ सकती है । जैसा कि आपको पता ही होगा कि प्रदेश में पिछली दो बड़ी प्राथमिक शिक्षक भर्तियाँ संपन्न हुई जिसमें एक 68500 तथा दूसरी 69000 पदों पर थी।

 

बिना ब्रिज कोर्स नौकरी कर रहे 35000 से अधिक बीएड शिक्षक

आपको बताते चलें कि राज्य में हुई 69000 पदों पर शिक्षक भर्ती में बीएड डिग्री धारियों को भी शामिल किया गया था। हालाँकि कि ये बेड अभ्यर्थी उस वक्त तक इसके योग्य नहीं थे क्योंकि इनके पास ब्रिज कोर्स नहीं था। किंतु उस समय एनसीटीई द्वारा अगले 6 माह में ब्रिज कोर्स कराने के आश्वासन के चलते बेड को 69000 शिक्षक भर्ती में शामिल कर लिया गया था। और काफ़ी भारी मात्रा में इन्होंने जॉइनिग भी प्राप्त की थी।

 

लेकिन समय बीतता गया और एनसीटीई कोर्ट में दिये ब्रिज कोर्स कराने के आश्वासन को भूलती गई। अब पिछले साल 11 अगस्त 2023 को जब सुप्रीम कोर्ट ने बीएड को प्राथमिक से बाहर कर दिया तो इस बात को लेकर भी काफ़ी माहौल गरम था कि कहीं बिना ब्रिज कोर्स किए नौकरी करने वाले बीएड शिक्षकों को भी न बाहर कर दिया जाये। जिसके बाद से भारी मात्रा में ब्रिज कोर्स कराने को लेकर धरना प्रदर्शन भी किया गया।

 

एक साल के अंदर कराये ब्रिज कोर्स

हाल ही में कोर्ट द्वारा एनसीटीई को डायरेक्शन दिया गया है कि जितना जल्दी हो सके 1 साल के अंदर ही बीएड शिक्षकों को ब्रिज कोर्स करवाकर प्रमाणपत्र वितरित किया जाये। आपको बता दें कि कोर्ट ने 11 अगस्त 2023 से पहले नियुक्ति पाने वालों को सुरक्षित बताया है। किंतु अब एनसीटीई को इस मुद्दे को सीरियस लेते हुए नियुक्ति प्राप्त शिक्षकों को प्रमाणपत्र देने की प्रक्रिया पूरी करानी चाहिए।

 

यदि आपको नहीं पता तो आपको बता दें कि ब्रिज कोर्स की अवधि 6 माह की होती है। इसका प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए किसी प्रकार की परीक्षा नहीं देनी होती है। यह प्रमाणपत्र प्रदान करने की ज़िम्मेदारी एनसीटीई की होती है। अतः बीएड डिग्री धारी शिक्षक निश्चिंत रहें एनसीटीईई जल्द ही ख़ुशख़बरी देने वाला है।

Leave a Comment